भगवान गणेश की पूजा में तुलसी का प्रयोग है वर्जित, जानिए इसके पीछे का रहस्य

भगवान गणेश की पूजा में तुलसी का प्रयोग वर्जित है। इसके पीछे तुलसी का भगवान गणेश को दिया गया श्राप है।

गणेश जी के पूजन में तुलसी का प्रयोग वर्जित है। हरिद्वार के पंडित अरविंद शर्मा एवं राजेश शर्मा के मुताबिक पौराणिक कथानुसार एक बार गणेश जी गंगा किनारे तप कर रहे थे। इसी दौरान धर्मात्मज की नवयौवना तुलसी ने विवाह की इच्छा लेकर तीर्थ यात्रा पर प्रस्थान किया।
 भ्रमण करते हुए तुलसी गंगा के तट पर पंहुची। उन्होंने तरुण गणेश जी को तपस्या में लीन देखा और उनपर मोहित हो गईं।विवाह की इच्छा से तुलसी ने उनका ध्यान भंग कर दिया। तुलसी की मंशा जानकर गणेश जी ने तप भंग करने को अशुभ बताया और स्वयं को ब्रह्मचारी बताकर तुलसी के विवाह के प्रस्ताव को नकार दिया।
गणेश जी के इंकार से तुलसी बहुत दुखी हुईं और आवेश में आकर उन्होंने गणेश जी को दो विवाह का शाप दे दिया। उधर गणेश जी ने भी तुलसी को शाप दे दिया कि उसका विवाह एक असुर से होगा।
एक राक्षस की पत्नी होने का शाप सुनकर तुलसी ने गणेश जी से माफी मांगी। तब श्री गणेश ने कहा कि तुम्हारा विवाह शंखचूड़ राक्षस से होगा। किंतु फिर तुम भगवान विष्णु और श्रीकृष्ण को प्रिय होने के साथ ही कलयुग में जगत के लिए जीवन और मोक्ष देने वाली होगी। पर मेरी पूजा में तुलसी चढ़ाना शुभ नहीं माना जाएगा। तब से भगवान श्री गणेश जी की पूजा में तुलसी का प्रयोग नहीं किया जाता है।

सम्भल में पुलिस पर गौ हत्यारों द्वारा भीषण हमला, इंस्पेक्टर आशीष की हालत गम्भीर

संभल में एक बार फिर गौ हत्यारों ने पुलिस पर जानलेवा हमला बोला है . गौ के मामले में दो अपराधियों को पकड़ने गयी पुलिस पूरी तरह से संवैधानिक रूप से कानून के दायरे में रह कर गिरफ्तारी के प्रयास कर रही थी की अचानक ही दंगाइयों ने पुलिस पर ठीक कश्मीरी अंदाज़ में पथराव कर दिया जिसमे सीधे सीधे पुलिस वालों को मार ही देने की साजिश थी .

इस पथराव में इसंपेक्टर दरोगा ने साहस से कार्य किया पर उसके साथ इन हालातों से निबट रहे 2 और जांबाज़ सिपाही घायल हो गए . इतना ही नहीं आक्रांताओं की भीड़ ने दोनों अपराधियों को पुलिस के चंगुल से छुड़ा लिया और भगा दिया .. इंस्पेक्टर की हालत इतनी नाजुक है की उनको मुरादाबाद रेफर करना पड़ा है बाकी दोनों अन्य सिपाहियों का इलाज स्थानीय अस्पताल में चल रहा है .

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

यह मामला सम्भल के संभल के थाना नखासा का है जहाँ के मोहल्ला हिलाली सराय में ये दुस्साहसिक घटना घटी है .. सटीक सूचना पर पुलिस ने गौ हत्या के दो आरोपियों को दबोच भी लिया था की अचानक ही वहां फिर से मज़हबी उन्माद फ़ैल गया और पुलिस पर हमला बोल दिया गया .. अचानक ही ना जाने कहाँ से ढेर सारा पत्थर और हथियार भीड़ में दिखने शुरू हो गए .. यद्द्पि पुलिस ने हालत से काफी संघर्ष किया पर हिंसक भीड़ का वो नंगा नाच संख्या मे कम पुलिस पर भारी पड़ा और जांबाज़ इसंपेक्टर आशीष कुमार बुरी तरह घायल हो गया जिनके सर को निशाना बना कर मारा गया .

जब इस अपराध की सूचना बाकी प्रशासन को हुई तो फ़ौरन ही इलाके को घेर लिया गया और एएसपी संभल और सी ओ भारी पुलिस बल के साथ घटना स्थल पर पहुंचे, इसके बाद उन गौ हत्यारों के घर में घुस कर तलाशी हुई , दरवाजो को बंद होने के कारण तोड़ दिया गया जिसके बाद इन गौ हत्यारों के घर से एक बैल और एक गाय को बरामद कर लिया गया । इसके साथ इस पथराव में शामिल इन हत्यारों के घर वालों पर भी कानूनी कार्यवाही शुरू कर दी गयी है . इस घटना ने संसद में बार बार झूठ बोलने वाले जावेद अली के झूठ को बेनकाब करते हए हामिद अंसारी के उन सभी सवालों का जवाब भी दे दिया है जिसमे साबित हो चुका है की भारत में कौन डरा सहमा है और कौन पीड़ित है .. ध्यान देने योग्य ये भी है की डेरा की खबरों को ही प्राथमिकता देने वाले वो सभी संचार माध्यम एक भी शब्द इस घटना पर नहीं बोल रहे हैं जो उनकी निष्पक्षता पर सवाल खड़े कर रहा है

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

 

कुछ दिनों पहले  हामिद अंसारी ने जाते जाते और राज्यसभा के राष्ट्र हित करने के लिए मिले पद का दुरूपयोग कर के खुद को विशेषाधिकार वालों कोई श्रेणी में रखने वाले जावेद अली जैसे सांसदों के संरक्षण में सम्भल के कुछ आतताई अब उस मुकाम पर पहुंच रहे हैं जहाँ उन्हें ना ही कानून का डर रहा और ना ही भारत के संविधान में दिए गए आदेशों का .. क्योंकि उन्हें पता है की संसद में जावेद अली जैसे तमाम लोग उनके लिए खड़े होने को तैयार हैं और इतना ही नहीं उनके खिलाफ बोलने वाले लोगों के खिलाफ खुद ही जज बन कर कार्यवाही करने को भी तैयार बैठे हैं .

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

 

पाकिस्तान में फिर धर्मांतरण, हिंदू लड़की को बनाया मुस्लमान

पाकिस्तान में हिंदू लड़कियों का अपहरण कर उनका धर्मांतरण कराना लंबे समय से जारी है। हालांकि इसे रोकने के लिए हिंदू विवाह अधिनियम को मंजूरी दी गई है, लेकिन अब ऐसे मामले अदालत में जाते हैं जहां प्रभावशाली लोग महिला पर परिजनों की हत्या का दबाव डालकर गलत बयानी कराते हैं
पाकिस्तान में आए दिन जबरन धर्म परिवर्तन के मामले सामने आते रहते है | कभी भोली भली लडकियों को प्रेम जाल में फस कर तो कभी जबरदस्ती किडनैप करके , तो कभी घर वालो को डरा धमका कर ,
पाकिस्तान में ये एक नया मामिला सामने आया है
पाकिस्तान में इस्लाम अपनाने वाली 21 वर्षीय हिंदू महिला को पाक अदालत ने उसके मुस्लिम पति के साथ रहने की इजाजत दे दी है। मां द्वारा अदालत से लगातार बेटी को उसे सौंपने की गुहार के बावजूद जज ने बेटी को माता-पिता के पास भेजने से इंकार कर दिया।
इस्लामाबाद हाईकोर्ट के जस्टिस शौकत अजीज सिद्दीकी ने मामले की सुनवाई करने के बाद पुलिस को आदेश दिया कि वह पति-पत्नी को पूरी सुरक्षा मुहैया कराए। पूर्व में अनुशी नाम की इस युवती ने धर्म बदलने के बाद अपना नाम मारिया रख लिया, जबकि उसके परिवार वालों ने आरोप लगाया था कि उनकी बेटी का अपहरण करके धर्म परिवर्तन कराया गया है। पाक अखबार ‘एक्सप्रेस ट्रिब्यून’ के मुताबिक मारिया ने अदालत को बताया कि उसने अपनी इच्छा से धर्म बदला है और माता-पिता के साथ जाने से इंकार कर दिया।

रिपोर्ट के मुताबिक मारिया ने अदालत में अपने धर्मांतरण को सही ठहराने के लिए अरबी ढंग से इबादत करके भी दिखाई। उसने अपने पति बिलावल अली भुट्टो के साथ रहने के लिए सुरक्षा भी मांगी। अदालत ने जब मारिया को उसके माता-पिता से मिलने को कहा तो उसने इंकार कर दिया। हालांकि अदालत के निर्देश पर जज के निजी सचिव के दफ्तर में उसने माता-पिता से 40 मिनट तक मुलाकात की। मारिया (अनुशी) की मां ने अदालत से कहा था कि उनकी बेटी उन्हें दी जाए ताकि वह उसे समझा सकें।

मां ने आशंका जताई कि शायद भुट्टो कुछ समय बाद उनकी बेटी को मार डाले। लेकिन जस्टिस शौकत सिद्दीकी ने कहा कि उन्हें लगता है कि मारिया को उसके परिजनों के हवाले इसलिए नहीं किया जा सकता है क्योंकि हो सकता है कि उसका दोबारा धर्मांतरण करा दिया जाए। जज ने कहा कि ऐसा करने से महिला की जिंदगी मुश्किल हो जाएगी।

यह एक नया चलन है, अदालत को ध्यान देना चाहिए

पाकिस्तान में हिंदू लड़कियों का अपहरण कर उनका धर्मांतरण कराना लंबे समय से जारी है। हालांकि इसे रोकने के लिए हिंदू विवाह अधिनियम को मंजूरी दी गई है, लेकिन अब ऐसे मामले अदालत में जाते हैं जहां प्रभावशाली लोग महिला पर परिजनों की हत्या का दबाव डालकर गलत बयानी कराते हैं। पाक हिंदू परिषद के संरक्षक और पीएमएल-एन के सदस्या रमेश कुमार वंकवानी ने कहा कि यह एक नया चलन है, जिस पर कोर्ट को ध्यान देना चाहिए।

तिरंगे में ‘लपेट’ कर भारत जूते भेज रहा चीन, फिर भी हम चीन से सामान आयात कर रहे है

डोकलाम बॉर्डर विवाद से बौखलाया चीन किसी भी हद तक जाने को तैयार हो गया है। अब उसकी ओर से एक और शर्मनाक हरकत को अंजाम दिया है, क्योंकि इस बार मामला राष्ट्र ध्वज तिरंगे का अपमान करना है। उत्तराखंड में एक शॉपकीपर को ऐसे डिब्बे डिलीवर किए गए जिसपर तिरंगा बना हुआ और चीनी भाषा में कुछ शब्द लिखे हुए थे। शॉपकीपर के पैरों के नीचे से जमीन उस वक्त निकली जब उसने डिब्बों में चीनी जूते देख।
दुकानदार ने पुलिस को जानकारी दे दी है और मामले की गंभीरता से जांच की जा रही है। पुलिस ने तम्मना ट्रेडर्स के मालिक से पूछताछ की है, जिसने बताया उसे ये डिब्बे दिल्ली से डिलीवर किए गए थे। पुलिस अब दिल्ली में भी पूछताछ शुरू कर दी है।

उत्तराखंड के शॉपकीपर बिशन बोरा ने बताया कि उसने रुद्रपुर के सप्लायर के खिलाफ केस दर्ज करवा दिया है। हिंदुस्तान टाइम्स की खबर के मुताबिक बिशन बोरा ने बताया जब उसने डिब्बों को खोला तो वो पल बेहद चौकाने वाला था। ये देखते ही उसने पुलिस बुलाई और पूरी जानकारी दी। बीजेपी के जिला अध्यक्ष अलमोरा ललित लतवाल ने तिरंगे अपमान पर नाराजगी जताई और पुलिस ने सख्त कार्रवाई की मांग की है।

डेरा समर्थकों की जबरदस्त हिंसा, 26 की मौत, पंचकूला सेना के हवाले, 4 राज्यों में जबरदस्त हंगामा

चंडीगढ़: डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम को दो महिलाओं से बलात्कार के आरोप में आज पंचकूला की विशेष सीबीआई अदालत ने दोषी करार दिया है. सजा पर फैसला 28 अगस्त को होगा. कोर्ट के भीतर से ही राम रहीम को हिरासत में ले लिया गया है. फैसले के मद्देनजर पंचकूला में डेरा प्रमुख के समर्थक बड़ी संख्या में मौजूद हैं. डेरा के मुख्यालय में भी समर्थक मौजूद हैं. समर्थकों ने फैसले के बाद उत्पात मचाना शुरू कर दिया है. डेरा समर्थकों ने एनडीटीवी की ओबी वैन पर हमला किया और ओबी के इंजीनियर को जख्मी कर दिया. दूसरे चैनलों की ओबी वैन पर भी हमले हुए हैं. आगजनी की खबरें भी आ रही हैं.

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

@5.14 PM: ANI के मुताबिक- पंचकूला में 70 लोग घायल हुए हैं, जो सेक्टर 6 के अस्पताल में भर्ती हैं.

@5.11 PM: पंचकुला से हमारे संवाददाता के अनुसार- फ्लैग मार्च की भांति पुलिस की गाड़ियां पंचकुला की सड़कों पर पुलिस की गाड़ियां दिखाई दे रही हैं. यहां पर लोग छतों पर डेरा जमाए हुए हैं. बताया जा रहा है कि यहां पर लोग डरे हुए हैं.

@5.10PM: सेना की निगरानी में गुरमीत राम रहीम को कोर्ट परिसर से सेना के हेडक्वार्टर भेजा जाएगा. अभी तक की जानकारी के अनुसार- 3-5 लोगों के मारे जाने की खबर है. पंचकुला में 100 के करीब गाड़ियों को आग लगा दी गई है.

@5.10 PM : हिंसा की आंच दिल्ली तक पहुंची, बस जलाई गई

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

@5.07 PM: पंजाब और हरियाणा से होकर गुजरने वाली 350 ट्रेनों को रद्द किया गया है. पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरेंद्र सिंह ने गृहमंत्री राजनाथ सिंह को बताया है कि वह पंजाब में हिंसा होने नहीं देंगे. बता दें कि पंजाब में दो स्टेशनों को पहले ही आग के हवाले कर दिया गया है.

@5.05 PM: हमारे रिपोर्टर के अनुसार- पंचकुला के आसमान में धुआं छा गया है. यहां पर प्रशासन हेलीकॉप्टर की मदद से शहर पर नजर रखे हुए है.

@5.00PM: मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर मंत्रिमंडल की इमरजेंसी बैठक कर रहे हैं.

@4.57 PM: राजनाथ सिंह ने मनोहर लाल खट्टर और अमरिंदर सिंह से फोन पर बातचीत की

@4.56 PM: सिरसा में भीड़ को काबू और आगजनी को रोकने के लिए पुलिस कर रही है हवा में फायरिंग

@4.49 PM: पंचकूला में डेरा समर्थकों की हिंसा में 5 लोगों की मौत : PTI

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

dera

@4.46 PM: डेरा सच्चा सौदा के प्रवक्ता ने कहा कि हमारे साथ अन्याय हुआ है. हम इसके खिलाफ अपील करेंगे.

@4.40 PM: यूपी के कई शहरों में अलर्ट, दिल्ली में अलर्ट

@4.23 PM: पंचकूला में बेकाबू हुए डेरा समर्थक, आयकर भवन को आग लगाई गई, पंजाब के कई शहरों में कर्फ्यू

@4.03 PM: डेरा समर्थकों का हंगामा, पुलिस नाकाम, मलोट रेलवे स्टेशन को आग लगाई.

@4.00 PM: डेरा समर्थकों ने की हवा में फायरिंग, कई दुकानों में तोड़फोड़.

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

dera

@3.57 PM: पंचकूला में हंगामा, कोर्ट की तरफ जाने की कोशिश में डेरा समर्थक, कई जगह से भागती दिखी पुलिस

@.3.50 PM: एनडीटीवी की ओबी वैन पर डेरा समर्थकों का हमला, ओबी वैन का इंजीनियर हुआ घायल.

@3.44 PM: समर्थकों के गुंडागर्दी करने की खबरों के बीच पुलिस ने कहा- स्थिति कंट्रोल में है.

@3.30 PM: डेरा समर्थकों को हटाने की कार्रवाई शुरू, पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े

@3.22 PM: पंचकूला में सेना ने किया फ्लैग मार्च, सुरक्षा व्यवस्था के मद्देनजर राम रहीम को सेना की अस्थायी जेल में ले जाया जा रहा है.

@ 3.15 PM: गुरमीत राम रहीम को कोर्ट के भीतर की हिरासत में लिया गया. अंबाला जेल ले जाया जा रहा है

@3.05 PM: डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम रेप केस में दोषी करार, सजा पर फैसला 28 अगस्त को

@2.56 PM: गुरमीत राम रहीम कोर्ट रूप में हाथ जोड़े खड़े हैं.

@2.54 PM: गुरमीत राम रहीम पर फैसला थोड़ी देर में, पंचकूला के रिहाइशी इलाकों की बिजली काटी गई

@2.44 PM: हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने लोगों से शांति की अपील की है. उन्होंने कहा कि शांति व्यवस्था कायम रखने के लिए सरकार पूरी तरह से तैयार है.

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

dera

@2.40 PM: गुरमीत राम रहीम कोर्ट के अंदर मौजूद, समर्थकों ने सड़कों पर शोर मचाना शुरू किया

@2.30 PM: कोर्ट परिसर में बीएसएफ, सीआरपीएफ और स्थानीय पुलिस मौजूद

@2.03 PM: पंचकूला कोर्ट पहुंचे गुरमीत राम रहीम, सुरक्षा व्यवस्था कड़ी

@1.23 PM: पंचकूला पहुंचे गुरमीत राम रहीम, सिर्फ 2 ही गाड़ियों को कोर्ट परिसर में जाने की इजाजत मिली

@1.15 PM: हरियाणा के पूर्व मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा ने लोगों से की अपील शांति बनाए रखें

@12.36 PM: हरियाणा सरकार को पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने फटकार लगाई है. बाबा को समय से कोर्ट में पेश किया जाए. पूरी प्रक्रिया की रिकॉर्डिंग हो. हालात बिगड़े तो पुलिस जिम्मेदार है. पुलिस को जैसे निपटना हो निपटे. नेता बीच में आएं तो FIR हो.

@12.29 PM: डीजीपी के मुताबिक- गुरमीत राम रहीम के काफिले में सिर्फ दो गाड़ियों को जाने की इजाजत मिली है. वह करीब 400 गाड़ियों को काफिले के साथ निकले थे.

@11.55 AM: पंचकूला के आसपास हेलीकॉप्टर और ड्रोन से निगरानी रखी जा रही है.

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

helicopter

@11.35 AM: डेरा प्रवक्ता ने जानकारी दी कि आश्रम से 25 से 30 गाड़ियां गई हैं. रास्ते में लोग जुड़ते गए

@11.30 AM: गुरु जी ने बार-बार शांति बनाए रखने की अपील की है, शांति भंग करने की जो आशंकाएं हैं वो निराधार हैं : डेरा प्रवक्ता

@11.15 AM: सुरक्षा की दृष्टि से हरियाणा जाने वाली 200 से अधिक रेलगाड़ियों को रद्द कर दिया गया है. पंचकुला में गुरमीत राम रहीम के लाखों समर्थक जुटे हुए हैं.

@11.05 AM: डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह के खिलाफ विशेष सीबीआई अदालत द्वारा बलात्कार मामले में सजा सुनाये जाने से पहले सेना की टुकड़ियां आज पंचकूला पहुंच गईं.

@10.58 AM:हरियाणा के डीजीपी ने कहा- शांति व्यवस्था कायम है. हम पर भरोसा रखिए, सब शांतिपूर्ण तरीके से होगा.

@10.15 AM: सिरसा का दलबीर सिंह स्टेडियम भी अस्थायी जेल में तब्दील किया गया

dera case

@10.05 AM: राम रहीम के पंचकुला की ओर जाने के बाद से उनके समर्थक परेशान हैं.

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

dera supporters

@9.33 AM: सिरसा में गुरमीत राम रहीम के भक्त भावुक होकर रोते दिखे

@9.20 AM: पंचकूला में रातभर डटे रहे लोग, जवान रहे मुस्तैद, लेकिन माहौल रहा शांतिपूर्ण

car

@9.06 AM पंचकूला कोर्ट के लिए करीब 400 गाड़ियों के काफिले के साथ निकले गुरमीत राम रहीम, किले में तब्दील हुआ कोर्ट

@8.19 AM- आज दोपहर ढाई बजे फ़ैसला आने की उम्मीद है. डेरा समर्थक डटे हुए हैं. पंचकूला में फ्लैग मार्च भी किया गया है.

dera chief

 

हटने की अपील के बावजूद डटे हैं समर्थक
डेरा प्रमुख ने वीडियो मैसेज के जरिए अपने समर्थकों को शांति बनाए रखने की अपील की और घर लौट जाने को कहा. हाइकोर्ट ने भी हरियाणा के डीजीपी को समर्थकों को हटाने का निर्देश दिया है. बावजूद उसके राम रहीम के समर्थक डटे हुए हैं.  सिरसा में डेरा के करीब 50 हजार अनुनायी मौजूद हैं.

डीजीपी ने कहा- फिलहाल हालात काबू में
हरियाणा के डीजीपी बीएस संधु का कहना है फिलहाल हालात काबू में हैं. पुलिस के अलावा पंचकुला में केंद्रीय सुरक्षाबलों को भी तैनात कर दिया गया है, क्योंकि राम रहीम के समर्थकों में बड़ी संख्या में महिलाएं, बुज़ुर्ग, बच्चे भी हैं, ऐसे में महिला पुलिसकर्मियों को भी तैनात किया गया है.

पंजाब, हरियाणा और चंडीगढ़ में मोबाइल इंटरनेट 72 घंटे के लिए बंद
इस बीच हरियाणा, पंजाब और चंडीगढ़ में मोबाइल इंटरनेट 72 घंटे के लिए बंद हैं. पंजाब जाने वाली 22, हरियाणा जानेवाली 7 ट्रेनें रद्द हो गई हैं, जबकि पंचकुला के लिए बस भी प्रभावित है. फैसले को देखते हुए पंजाब और हरियाणा के सभी स्कूल, कॉलेज और सरकारी दफ़्तर बंद हैं.

ममता बनर्जी ने मुहर्रम के दिन दुर्गा मूर्ति विसर्जन पर लगाई रोक

मुहर्रम और दुर्गा मूर्ति विसर्जन एक ही दिन पड़ने से पश्चिम बंगाल सरकार ने एक अक्टूबर को मूर्ति विसर्जन पर रोक लगा दी है. सरकार ने कहा है कि 2 से 4 अक्टूबर के बीच दुर्गा मूर्ति विसर्जन किए जा सकेंगे. इस तुगलकी फरमान से देख भर में विरोध और गुस्सा है .. बीजेपी ने विरोध प्रकट किआ और पर्दशन किया

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक अक्टूबर को दुर्गा मूर्ति विसर्जन पर रोक लगा दी है. दरअसल इस बार मुहर्रम और दुर्गा मूर्ति विसर्जन एक ही दिन पड़ रहा है. मुहर्रम एक अक्टूबर को मनाया जाना है. ममता सरकार का कहना है कि दोनों पर्व के चलते दो समुदायों में विवाद या झगड़ा न हो इसलिए ये फैसला लिया है.

कोलकाता में दुर्गा प्रतिमाओं के विसर्जन पर लिए गए फैसले ने पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की मुश्किलें बढ़ा दी हैं। सोशल मीडिया पर उनकी जमकर आलोचना हो रही है। जनता उनके फैसले से नाराज है, इसलिए सोशल मीडिया के जरिये अपने गुस्से को जाहिर कर रही है।

वहीं विरोधी पार्टी भाजपा ने भी ममता के इस फैसले की आलोचना की और इसे तुष्टिकरण की नीति बताया। भाजपा के राष्ट्रीय सचिव राहुल सिन्हा ने कहा कि हिंदुओं के त्योहारों पर पाबंदी लगा कर ममता अल्पसंख्यक तबके को खुश करने की कोशिश कर रही हैं।

आपको बता दें कि ममता बनर्जी ने बीते साल की तरह इस साल भी विजयादशमी के अगले दिन दुर्गा प्रतिमाओं के विसर्जन पर पाबंदी लगा दी है। ये पाबंदी मुहर्रम के जुलूस को ध्यान में रखते हुए लगायी गई है।

ममता बनर्जी ने अपने आधिकारिक ट्विटर पर कहा है कि 2 अक्टूबर से 4 अक्टूबर तक मूर्ति विसर्जन किया जा सकेगा.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, ममता के बुधवार को ऐलान के कुछ घंटो बाद भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने फैसले पर नाराज़गी जाहिर करते हुए कहा है कि वो इस फैसले के खिलाफ़ कोर्ट जाएंगे.

ममता का कहना है,’इस वर्ष दुर्गा पूजा और मुहर्रम एक ही समय पर है. त्योहारों के दौरान हमें शांति बनाए रखना है. मैं पुलिस से पूजा और मुहर्रम समितियों से बात करने को कहूंगी, जहां पर मुहर्रम जुलूस ले जाएंगे वहां बैरिकेड लगाने की व्यवस्था की जाएगी ताकि दोनों समुदायों के जुलूस एक दूसरे के सामने ना हों. इस संबंध में पूजा समितियों को महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी. आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि कोई अप्रिय घटना न हो. हम किसी को दंगे भड़काने की इजाजत नहीं देंगे.’

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

भाजपा राष्ट्रीय महासचिव राहुल सिन्हा का कहना है ‘ममता सरकार का फैसला मनमाना है. उन्होंने हिंदू पर्व पर पाबंदी लगाई है, सिर्फ अल्पसंख्यकों को खुश करने के लिए. सरकार ने रामनवमी और हनुमान जयंती के जुलूसों पर भी रोक लगा रखी है. हम इस मामले को लेकर अदालत जाएंगे.’

इंडिया टुडे के अनुसार, ममता सरकार ने पिछले वर्ष भी इसी तरह का आदेश दिया था, जिसको कलकत्ता हाईकोर्ट ने निरस्त कर दिया था. अदालत ने राज्य सरकार के फैसले को मनमाना और विशेष समुदाय को खुश करने का प्रयास बताया था.

6 अक्टूबर, 2016 को कलकत्ता हाईकोर्ट की एकल पीठ के जस्टिस दीपांकर दत्ता ने राज्य सरकार के आदेश को ख़ारिज कर कहा था कि ऐसा कोई भी फैसला नहीं लिया जाना चाहिए, जिसके चलते दो समुदाय एक दूसरे के खिलाफ़ खड़े हो जाएं.

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

ममता ने मुहर्रम के दिन दुर्गा मूर्ति विसर्जन पर लगाई रोक

मुहर्रम और दुर्गा मूर्ति विसर्जन एक ही दिन पड़ने से पश्चिम बंगाल सरकार ने मुस्लिम लोगो को खुश करने के लिए एक अक्टूबर को मूर्ति विसर्जन पर रोक लगा दी है. सरकार ने कहा है कि 2 से 4 अक्टूबर के बीच दुर्गा मूर्ति विसर्जन किए जा सकेंगे. इस तुगलकी फरमान से देख भर में विरोध और गुस्सा है .. बीजेपी ने विरोध प्रकट किआ और पर्दशन किया

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने एक अक्टूबर को दुर्गा मूर्ति विसर्जन पर रोक लगा दी है. दरअसल इस बार मुहर्रम और दुर्गा मूर्ति विसर्जन एक ही दिन पड़ रहा है. मुहर्रम एक अक्टूबर को मनाया जाना है. ममता सरकार का कहना है कि दोनों पर्व के चलते दो समुदायों में विवाद या झगड़ा न हो इसलिए ये फैसला लिया है.

ममता बनर्जी ने अपने आधिकारिक ट्विटर पर कहा है कि 2 अक्टूबर से 4 अक्टूबर तक मूर्ति विसर्जन किया जा सकेगा.

इंडियन एक्सप्रेस के अनुसार, ममता के बुधवार को ऐलान के कुछ घंटो बाद भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने फैसले पर नाराज़गी जाहिर करते हुए कहा है कि वो इस फैसले के खिलाफ़ कोर्ट जाएंगे.

ममता का कहना है,’इस वर्ष दुर्गा पूजा और मुहर्रम एक ही समय पर है. त्योहारों के दौरान हमें शांति बनाए रखना है. मैं पुलिस से पूजा और मुहर्रम समितियों से बात करने को कहूंगी, जहां पर मुहर्रम जुलूस ले जाएंगे वहां बैरिकेड लगाने की व्यवस्था की जाएगी ताकि दोनों समुदायों के जुलूस एक दूसरे के सामने ना हों. इस संबंध में पूजा समितियों को महत्वपूर्ण भूमिका निभानी होगी. आपको यह सुनिश्चित करना होगा कि कोई अप्रिय घटना न हो. हम किसी को दंगे भड़काने की इजाजत नहीं देंगे.’

भाजपा राष्ट्रीय महासचिव राहुल सिन्हा का कहना है ‘ममता सरकार का फैसला मनमाना है. उन्होंने हिंदू पर्व पर पाबंदी लगाई है, सिर्फ अल्पसंख्यकों को खुश करने के लिए. सरकार ने रामनवमी और हनुमान जयंती के जुलूसों पर भी रोक लगा रखी है. हम इस मामले को लेकर अदालत जाएंगे.’

इंडिया टुडे के अनुसार, ममता सरकार ने पिछले वर्ष भी इसी तरह का आदेश दिया था, जिसको कलकत्ता हाईकोर्ट ने निरस्त कर दिया था. अदालत ने राज्य सरकार के फैसले को मनमाना और विशेष समुदाय को खुश करने का प्रयास बताया था.

6 अक्टूबर, 2016 को कलकत्ता हाईकोर्ट की एकल पीठ के जस्टिस दीपांकर दत्ता ने राज्य सरकार के आदेश को ख़ारिज कर कहा था कि ऐसा कोई भी फैसला नहीं लिया जाना चाहिए, जिसके चलते दो समुदाय एक दूसरे के खिलाफ़ खड़े हो जाएं.

यौन शोषण केस में राम रहीम दोषी, सजा पर सुनवाई 28 अगस्त को, जानिए कोर्ट ने क्या क्या कहा

यौन शोषण केस में राम रहीम दोषी करार

पंचकुला में सीबीआई की विशेष कोर्ट ने यौन शोषण के मामले में राम रहीम को दोषी करार दिया है. इस मामले में सजा पर सुनवाई 28 अगस्त को होगी.

कोर्ट ने कहा

  • यौन शोषण के मामले में गुरमीत राम रहीम दोषी करार
  • सजा पर सुनवाई 28 अगस्त को
  • राम रहीम को कोर्ट से सीधे अंबाला जेल ले जाया जाएगा
  • कोई नेता अगर भड़काऊ भाषण देता है तो उनपर FIR दर्ज की जाए: HC
  • हरियाणा, पंजाब और चंडीगढ़ में तीन दिन के लिए मोबाइल इंटरनेट बंद
  • स्कूल-कॉलेज बंद, बसें रोकी गईं, 200 से ज्यादा ट्रेनें रद्द

 

इससे पहले पंजाब-हरियाणा हाइकोर्ट ने हरियाणा सरकार को कड़े आदेश देते हुए कहा कि जरूरत पड़ने पर वो बल प्रयोग कर सकते हैं. कोर्ट ने ये भी कहा है कि अगर कोई नेता भड़काऊ भाषण देता है तो उनपर FIR दर्ज की जाए. वहीं, हरियाणा के मुख्यमंत्री एमएल खट्टर ने कहा कि वो कोर्ट का फैसला लागू कराएंगे. उन्होंने ये भी कहा कि हम हर हालात से निपटने के लिए तैयार हैं.

हम हालात से निपटने के लिए तैयार: एम एल खट्टर

राम रहीम पर फैसले से पहले हरियाणा के मुख्यमंत्री एमएल खट्टर ने कहा कि वो कोर्ट का फैसला लागू कराएंगे. उन्होंने ये भी कहा कि हम हर हालात से निपटने के लिए तैयार हैं.

जरूरत पड़ने पर बल प्रयोग करें: हाइकोर्ट

इस बीच पंजाब-हरियाणा हाइकोर्ट ने हरियाणा सरकार को कड़े निर्देश देते हुए कहा है कि जरूरत पड़ने पर बल प्रयोग करें. कोर्ट ने ये भी कहा है कि अगर कोई नेता भड़काऊ भाषण देता है तो उनपर FIR दर्ज की जाए.

मक्का मदीना में शिवलिंग की पूजा करते है मुस्लमान! देखे काबा में शिवलिंग का अदभुत रूप

मुसलमानों के सबसे बड़े तीर्थ मक्का के बारे में कहते हैं कि वह मक्केश्वर महादेव का मंदिर था। वहां काले पत्थर का विशाल शिवलिंग था जो खंडित अवस्था में अब भी वहां है। हज के समय संगे अस्वद (संग अर्थात पत्थर, अस्वद अर्थात अश्वेत यानी काला) कहकर मुसलमान उसे ही पूजते और चूमते हैं। बिना उसे चूमे और उसकी प्रार्थना किये हज पूरा नहीं होता |

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

मकका पहुंचने के लिए मुख्य नगर जेद्दाह है. यह नगर एक बंदरगाह भी है और अंतरराष्ट्रीय हवाई मार्ग का मुख्य केन्द्र भी. जेद्दाह से मक्का जाने वाले मार्ग पर ये निर्देश लिखे होते हैं कि यहां मुसलमानों के अतिरिक्त किसी भी और धरम का व्यक्ति प्रवेश नहीं कर सकता.

देखे पूरा विडियो …..

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

अधिकांश सूचनाएं अरबी भाषा में लिखी होती हैं, जिसे अन्य देशों के लोग बहुत कम जानते हैं।अब तक इन सूचनाओं में यह भी लिखा जाता था कि “काफिरों’ का प्रवेश प्रतिबंधित है। लेकिन इस बार “काफिर’ शब्द के स्थान पर “नान मुस्लिम’ यानी गैर-मुस्लिमों का प्रवेश वर्जित है, लिखा था। “काफिर’ शब्द का शाब्दिक अर्थ होता है “इनकार करना’ अथवा “छिपाना’। वास्तव में “काफिर’ शब्द का उपयोग नास्तिक के लिए किया जाता है। दुर्भाग्य से “काफिर’ शब्द को हिन्दुओं से जोड़ दिया, जो एकदम गलत है। ईसाई, यहूदी, पारसी और बौद्ध भी उस वर्जित क्षेत्र में प्रवेश नहीं कर सकते।

 

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

मुसलमानों के सबसे बड़े तीर्थ मक्का के बारे में कहते हैं कि वह मक्केश्वर महादेव का मंदिर था। वहां काले पत्थर का विशाल शिवलिंग था जो खंडित अवस्था में अब भी वहां है। हज के समय संगे अस्वद (संग अर्थात पत्थर, अस्वद अर्थात अश्वेत यानी काला) कहकर मुसलमान उसे ही पूजते और चूमते हैं।

इस्लाम की परवाह किए बिना जहीर करते हैं शिवलिंग की पूजा, बोले-शिव ही मेरे परमेश्वर हैं

Bhopal: इंदौर जिले के खंडवा में मोहम्मद जहीन ने किया जो एक आम इंसान के बस की बात नहीं है। जिसके लिए हर जाति, हर धर्म के लोग उन्हें सलाम करते हैं। 45 साल के जहीर सालों से मंदिर और मस्जिद दोनों की देखभाल एक साथ कर रहे हैं। जहीर, अल्लाह, भगवान और गॉड को एक मानते हैं। इनका कहना है कि इस बात पर लड़ने वाले बेवकूफ़ होते हैंय़ जब भगवान ने हम सब को एक बनाया है, तो हम भगवान को कैसे बांट सकते हैं।

 

 

शिव मंदिर और मस्जिद दोनों को साफ करना, मंदिर में भगवान का श्रृंगार और मस्जिद में अजान, जहीर ये सारे काम बख़ूबी निभाते हैं। सावन के महीने में शिव की आराधना के लिए आने वालों की भीड़ भी उनकी इस श्रद्धा को देख कर हैरान है।

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

10 सालों से मंदिर की देखभाल कर रहे जहीर अपने घर से करीब 20 किलोमीटर का सफ़र तय करके खंडवा आते हैं। सुबह वो सबसे पहले मंदिर की सफाई करते हैं, और उसके बाद वो मस्जिद का काम करने जाते हैं। इनकी इस लगन और प्रेमभाव ने देश के सामने एक मिसाल कायम की है।

हमारा Facebook पेज LIKE करने के लिए यहाँ क्लिक करें

10 सालों से मंदिर की देखभाल कर रहे जहीर अपने घर से करीब 20 किलोमीटर का सफ़र तय करके खंडवा आते हैं। सुबह वो सबसे पहले मंदिर की सफाई करते हैं, और उसके बाद वो मस्जिद का काम करने जाते हैं। इनकी इस लगन और प्रेमभाव ने देश के सामने एक मिसाल कायम की है।